पिट्स इंडिया एक्ट 1784 हिंदी में pits india act 1784

रेगुलेटिंग एक्ट 1773 की कमियों को सुधारने के लिए पिट्स इंडिया एक्ट 1784 लाया गया | पिट्स इंडिया एक्ट में निम्नलिखित प्रावधान थे –

पिट्स इंडिया एक्ट 1784 के प्रावधान

इस एक्ट को ब्रिटिश संसद में तत्कालीन प्रधानमंत्री विलियम पित्त द्वारा प्रस्तुत किया गया था इस अधिनियम के मुख्य विशेषता यह थी कि “निदेशक मंडल” ( कोर्ट आफ डायरेक्टर्स) को कंपनी के व्यापारिक मामलों के अधीक्षक की अनुमति तो दे दी गई लेकिन राजनीतिक मामलों के प्रबंधन के लिए “नियंत्रण बोर्ड” (बोर्ड ऑफ कंट्रोल )नाम से एक निकाय का गठन किया गया इस प्रकार भारत में द्वैध शासन व्यवस्था की शुरुआत हुई |

  • यह अधिनियम दो प्रमुख कार्यों से महत्वपूर्ण था – पहल भारत में कंपनी के अधीन क्षेत्र को सर्वप्रथम ब्रिटिश आधिपत्य क्षेत्र कहा गया दूसरा ब्रिटिश शासन को भारत में कंपनी तथा प्रशासन संबंधी कार्यों पर पूर्ण नियंत्रण प्रदान किया गया |
  • गवर्नर जनरल की परिषद की सदस्य संख्या 4 से घटकर 3 कर दी गई साथ ही मद्रास तथा मुंबई की सरकारों को पूरी तरह से बंगाल सरकार के अधीन कर दिया गया |

Leave a comment