आधारभूत संरचना किसे कहते हैं ? इसकी विशेषता एवं चुनौतियां |

नमस्कार दोस्तों आज के इस लेख में हम आधारभूत संरचना किसे कहते हैं इसकी विशेषता एवं चुनौतियां के बारे में हम विस्तार से पढ़ेंगे | आप इस लेख को शुरू से लेकर अंत तक जरूर पढ़े ताकि इससे संबंधित कोई भी डाउट आपके मन में ना रहे |

आधारभूत संरचना किसे कहते हैं ?

आधारभूत संरचना अर्थव्यवस्था में उद्योगों को सहायक सेवाएं उपलब्ध कराता है जैसे सड़क ,रेल , इत्यादि |

जिसके द्वारा औद्योगिक उत्पादन होता है और अर्थव्यवस्था आर्थिक समृद्धि और विकास को प्राप्त करता है|

आधारभूत संरचना अर्थव्यवस्था में वह प्लैटफॉर्म या आधार प्रदान करता है जिस पर उत्पादन के चारों कारक मिलकर उत्पादन करते हैं तथा अर्थव्यवस्था में आर्थिक समृद्धि और विकास को प्राप्त किया जाता है|

उत्पादन के चार कारक होते हैं- भूमि, पूंजी ,श्रमिक एवं उद्यमी

आधारभूत संरचना की विशेषता

  1. आधारभूत संरचना में नैसर्गिक एकाधिकार होता है| आधारभूत संरचना के निर्माण में निवेश की अत्यधिक आवश्यकता होती है इसीलिए यहां एक सेवा प्रदाता का होना अधिक उचित माना जाता है क्योंकि एक से अधिक सेवा प्रदाता होने पर इसके निम्नलिखित प्रभाव होते हैं-

a.परस्पर एक दूसरे के हित प्रभावित होते हैं|

b.प्रयास का दोहराव होता है|

c. निवेश खर्च बढ़ता है जिससे ICOR में वृद्धि होती है और पूंजी की उत्पादकता कम होती है|

2.आधारभूत संरचना में उच्च डूब लागत तथा निर्माण की लंबी प्रक्रिया होती है|

आधारभूत संरचना के निर्माण में अत्यधिक निवेश खर्च होता है तथा जब तक परियोजना पूरी नहीं हो जाती तब तक प्रारंभिक निवेश डूबा हुआ माना जाता है इसे ही डूबी हुई लागत कहा जाता है सामान्यत आधारभूत संरचना में किसी भी परियोजना निर्माण में लंबी अवधि लगती है|

3. आधारभूत संरचना सरकार की नीतियों से प्रभावित होती है सरकार की नीतियां जब इसके अनुकूल होती हैं तो देश में अत्यधिक आधारभूत संरचना का निर्माण होता है जबकि प्रतिकूल सरकारी नीतियां इसके निर्माण में बाधा उत्पन्न करती है|

4.आधारभूत संरचना में निर्मित वस्तु का उपभोग किया जाता है इसका संग्रहण नहीं होता है|

5.आधारभूत संरचना में निर्मित वस्तु को सार्वजनिक वस्तु कहा जाता है क्योंकि इसमें गैर प्रतिद्वंद्विता और गैर अपवर्जिता के गुण होते हैं|

6. आधारभूत संरचना अर्थव्यवस्था में गुणक प्रभाव डालती है|

आधारभूत संरचना की चुनौतियां

आधारभूत संरचना की चुनौतियां निम्नलिखित प्रकार की हैं-

अपर्याप्त वित्तीयन : आधारभूत संरचना में वित्तीयन के लिए सरकार के पास पर्याप्त संसाधन नहीं है|

निजी क्षेत्र के साथ अपर्याप्त सहभागिता: आधारभूत संरचना में निजी क्षेत्र की भागीदारी कम हुई है|

इंटर मॉड्यूलर मिक्स : भारत में परिवहन के चार मुख्य साधन माने जाते हैं सड़क ,रेल ,जल तथा वायु |

इन परिवहन में सबसे अधिक सड़क परिवहन का उपयोग किया जाता है किंतु सड़क परिवहन में चार मुख्य समस्या हैं-

A.सड़क परिवहन में ट्रैफिक की समस्या |

B.सड़क परिवहन में कार्बन फुटप्रिंटअधिक |

C.ईंधन की कम कुशलता होती है|

D.लागत सबसे अधिक होता है|

जबकि जल परिवहन उपायुक्त चारों परिवहन साधनों में सबसे सस्ता और सम माना जाता है क्योंकि लागत कम ईंधन की कुशलता अधिक होती है

सरकार घरेलू जलमार्ग को विकसित करने के लिए अंतर्देशीय जलमार्ग पर बल दे रही है पहले यह 5 थे किंतु सरकार द्वारा 111 और घोषित किए जाने के बाद अब वर्तमान में 116 है

किंतु वर्तमान में देश में मात्र 3% परिवहन में जल मार्ग का प्रयोग किया जाता है|

आधारभूत ढांचे के निर्माण की उच्च लागत : MOSPI के सर्वे 2022 के अनुसार उन परियोजनाओं पर जिनकी लागत 150 करोड रुपए से अधिक हैं देश में लगभग 1637 परियोजनाएं लंबित हैं| जिसकी कुल लागत 21 लाख करोड़ है किंतु लंबित होने के कारण लागत बढ़कर लगभग 26 लाख करोड़ हो गया है इससे दितुलन पत्र की समस्या हो सकती है |

परियोजना से जुड़ी समस्या : परियोजना से संबंधित दो मुख्य समस्याएं हैं-

a.समय पर ही परियोजना शुरू न होना

b.पहले से चली आ रही परियोजनाएं लंबित हो जाना

15 अगस्त 2021 में सरकार द्वारा प्रोजेक्ट गति शक्ति की घोषणा की गई जिसका मुख्य उद्देश्य आधारभूत संरचना संबंधित परियोजना शीघ्रता शीघ्र समय पर पूरा किया जाए|

मैं उम्मीद करता हूं दोस्तों कि आप इस लेख को पढ़कर आधारभूत संरचना किसे कहते हैं इसकी विशेषता एवं चुनौतियां के बारे में अच्छी तरह से समझ चुके होंगे |

Leave a comment